Technical SEO क्या है: 16 Important Components!

1

Technical SEO क्या है (What is technical SEO in Hindi) और इसे कैसे करते हैं ? क्या आप इसके विषय में अच्छे से जानते हैं है? SEO करते समय केवल हम On Page और Off Page SEO पर ही ध्यान देते हैं पर SEO में एक Technical SEO भी बहुत महत्वपूर्ण होता है| जिसपर किसी भी blogger की नज़र नहीं जाती हैं|

अगर आपने content बहुत अच्छा लिखा है और उसके लिए backlinks भी बहुत बनाई है पर भी अगर आपका index और rank नहीं हो रहा है तो समझ लीजिये की उसमें कुछ Technical दिक्कत है जिसे आपको ठीक करना होगा| पर technical seo कैसे करते हैं| क्या आपको ये पता है? अगर नहीं तो आपके लिए यह article बहुत महत्वपूर्ण होने वाला हैं|

Technical SEO Kya Hai

इस blog post में, मैं बताने वाला हूँ Technical SEO क्या है और इसमें कौन कौन सी जरुरी चीजें आती है जिन्हे आपको समझना बहुत जरुरी है जिससे अगर On Page SEO और Off Page SEO करने के बाद भी आपका article रैंक नहीं होता तो आप उसकी जाँच कर सकें|

यह article बहुत ही interesting होने वाला है इसीलिए किसी भी point को miss ना करें|चलिए सबसे पहले समझते हैं की Technical SEO क्या हैं|

Technical SEO क्या हैं (What Is Technical SEO In Hindi)

Technical SEO Off Page SEO, On Page SEO और Local SEO इन सब से बिलकुल अलग होता है| Technical SEO में आपकी Website के Structure को analyze किया जाता है| SEO में भी Technical SEO बहुत important role play करता है|Technical SEO किये बगैर आपकी Website का Run करना इतना possible नहीं है|

Technical SEO में आपको अपनी website को crawling, indexing, और rendering के लिए optimize करना पड़ता है जिससे Google को कोई दिक्कत ना हो आपके blog post को rank करने में| दूसरे शब्दों में Technical SEO में आपकी website से जुडी सारी technical चीजें आती हैं जिसे आपको ठीक करना पड़ता हैं|

Ubersuggest के founder Neil Patel के अनुसार, वह सारा काम को content से अलग किसी भी website की technical foundation को strong करने के लिए किया जाता हैं वो technical SEO के अंदर ही आता है|

संछेप में, मै यही कहना चाहता हूँ कि वो हर काम जो आप अपने कंटेंट से अलग अपनी website के technical चीजों को improve करने के लिए करते हैं वो Technical SEO होता है|

तो चलिए समझते हैं की आपको technical seo की जानकारी लेना क्यों जरुरी है|

Technical SEO क्यों जरुरी है

क्या आपने बिना फार्मूला use किये किसी math के question को solve किया है? क्या आपने अपनी किताब का एक chapter छोड़कर exam कभी दिया है ? नहीं ना, किसी भी चीज को बिना पूरा समझे उसे करना बहुत ही खतरे का विषय हो जाता है| इसीलिए बिना Technical SEO समझे बस On Page औ र Off Page SEO यह समझना की आपका काम complete हो गया है, यह गलत है|

चलिए मान लेते है की आपने अपनी वेबसाइट का On Page SEO और Off Page SEO कर लिया पर अगर आपकी पोस्ट की crawling और indexing कोई दिक्कत आ गई तो क्या आपका blog post Google में rank करेगा? नहीं, आपको पहले यह समझना होगा की कौन सी technical दिक्कत की वजह से आपका blog post Google पर rank नहीं कर रहा है|Technical SEO Local SEO में भी सहायता करता है|

इसीलिए आपको technical seo का ज्ञान होना बहुत महत्वपूर्ण है तो चलिए समझते हैं की आप अपनी वेबसाइट के technical SEO को कैसे सुधार सकते हैं|

अपनी Website का Technical SEO कैसे सुधारें: 16 Important Components

क्या आप अपनी website का technical seo improve करना चाहते हैं? यदि हाँ, तो यह 15 जरुरी components को समझना आपके लिए जरुरी हैं|क्योंकि technical SEO में यहीं सारी चीजें आती हैं जिसे आप समझकर अपनी वेबसाइट में ठीक कर सकते हैं|

1. Domain क्या हैं

वह नाम जिसपर आपकी वेबसाइट रजिस्टर होती है उसे Domain कहते हैं| जैसे Deepawaliseotips.com मेरी वेबसाइट का domain है| Domain Name एक पता होता है जिसकी मदद से ही Internet User आपकी Website तक पहुँचते हैं।

Internet पर अनगिनत domain name available हैं जिनके लिए आप किसी भी extension का use कर सकते हैं जैसे .in, .xyz, .club, .edu, .store, .net, और बहुत पर इनमें से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और use होने वाला extension .com है जिससे आप जरूर परिचित होंगे|

Domain kya hai

आपको अपनी Website के कंटेंट के अनुसार ही Domain Name Purchase करना चाहिए जिससे आपकी Website के बारे में लोगों को पता चल सके|मुझे पता है अब आप कहेंगे की फिर मैंने अपनी website का नाम Deepawali.co.in क्यों रखा| उस समय मैं इसके बारे में ज्यादा जनता नहीं था इसीलिए|

2. Web Hosting क्या है

जब कोई website provider किसी वेबसाइट के सारे डाटा को एक server पर host कर देता है जिससे उस server पर आने वाले हर व्यक्ति को वह डाटा दिख सके तो उसे web hosting कहते हैं|

यह डाटा उस server पर कुछ codes के जरिये दिखाया जाता है पर यह एक hard drive में ही स्टोर होता है|आप भी अपनी वेबसाइट को खुद के कंप्यूटर पर host कर सकते हैं|

Website server की भी एक limit होती है जो आपकी website के size और traffic पर निर्भर करती है| आप shared, VPS, managed, reseller, इनमें से किसी भी hosting को अपनी जरुरत के अनुसार चुन सकते हैं|अगर आप एक आप अपनी वेबसाइट शुरू करने की सोच रहें हैं तो शुरुआत shared hosting से करें क्योंकि काफी सस्ती होती है|

3. Server Location क्या है

वह location जहाँ से आपकी वेबसाइट को host किया जाता है और आपकी website का सारा डाटा save रहता है उसी जगह को Server location कहते हैं| यह पूरी दुनियां में कही भी हो सकता हैं चाहे US या India|

Website को जल्दी load करने की लिए आप उसी जगह का चुनाव करें जहाँ की audience को आप target करने वाले हो|क्योंकि इससे website ranking पर काफी फर्क पड़ता हैं|जैसे मान लीजिये अगर आप US की audience को target करने वाले हैं तो अपनी website के server location को New York में ही रखे और अगर India तो एशिया में server location set करें|

4. Page Speed क्या है

किसी भी वेबसाइट के एक specific webpage के load time को ही Page Speed कहते हैं|ज्यादातर bloggers website speed और page speed को एक ही समझ लेते हैं पर ये दोनों एक दम अलग है|Page speed आपकी website के एक single webpage का load time है जबकि website speed आपकी पूरी website का load time होता है|

यह technical seo का सबसे ज्यादा जरुरी भाग है इसीलिए article पब्लिश करने के बाद आपने वेबपेज का speed test जरूर कर लिया करिये|जिससे यह पता चल सके की कहीं आपकी वेबपेज को load होने में कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है|इसे चेक करने के लिए आप Google के page speed test platform का use कर सकते हैं|

Google Page speed test kya hai

5. Website Design और Structure क्या है

वह design जो आपने अपने वेबसाइट के लिए चुनी होती है और आपके visitor को दिखाई देती यही उसे website design कहते हैं| जो आपके user experience को बढ़ाने का काम करती है|आपकी website का design या structure जितना अच्छा होता है|उतना ही reader को content पड़ने में मजा आता है|आज के time में जो दिखता है वही बिकता है|

पर ध्यान रहे कि कोई ऐसा design मत import कर लीजियेगा जो काफी भारी हो नहीं तो उससे आपकी वेबसाइट का load time बढ़ जायेगा और Google आपकी वेबसाइट को rank नहीं करेगा|

Note: एक बात ध्यान में रखे की कम से काम 6 महीने design और structure पर बिलकुल भी ध्यान ना दे बस अपनी website की speed पर ध्यान दे उसके बाद धीरे धीरे अपनी website के डिज़ाइन में changes करें|

6. SSL Certificate क्या है

SSL certificate को TLS certificate भी कहते हैं जो आपकी website को HTTP से HTTPS की तरफ move कर देता है जो आपकी वेबसाइट के server पर उपस्थित डाटा को SSL/TSL encryption mode में internet के साथ जोड़ता है| इस encrypted information को decrypt करने की public key आपकी वेबसाइट में install होती है|

इसीलिए जब reader आपकी वेबसाइट पर आता है तो उसे सारी information समझ में आ जाती है| Google ने ये function reader की information को secure करने के लिए लाया है| जब आप अपनी website में SSL certificate install करेंगे तभी आपकी वेबसाइट Google में टॉप पर रैंक करेगी|

7. Website Errors क्या है

जब किसी वेबसाइट का कोई पेज access करने पर आपको 3 digit का एक code दिखाई पड़ता है तो उस पेज को ही Error Page कहते हैं|यह आपकी गलती या server में कोई technical दिक्कत होने की वजह से होता है|आपको इसे जल्द से जल्द इसे ठीक करना पड़ता है वरना इससे आपकी वेबसाइट की सर्च रैंकिंग पर काफी बड़ा फर्क पड़ जाता है|

401, 403, 404, 500, 502, 503, 504 ये कुछ जरुरी error pages के कोड हैं अगर ये आपको अपनी website के किसी पेज को access करते समय दिखाई दे जाता है तो इसे जल्दी ठीक करना होगा|ये error pages technical SEO में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिसके चलते reader experience में भी दिक्कत आती है|

Buy Hostinger Hosting and Free SSL

Additonal discount code:- SEOPAVAN

8. URL Structure क्या है

URL structure आपके website के domain का एक पूरा structure होता है जिसमें पहले protocol फिर उसके बाद आपकी वेबसाइट का नाम उसके बाद extension और last में webpage का path होता है| अपनी website का URL structure define करते समय उसमें कोई भी date या year नहीं लेना चाहिए नहीं तो webpage कुछ समय के Google search results में rank करना बंद हो जाता है|

एक Ideal URL “https//:deepawaliseotips.com/technical-seo-kya-hai” होता है|अगर आपकी वेबसाइट का भी URL Structure ऐसा ही है तो आप ठीक कर रहें है अगर नहीं तो इसे आपको ठीक करना होगा|

9. Broken Links क्या है

जब किसी वेबसाइट का owner अपनी वेबसाइट पर पब्लिश किसी ब्लॉग पोस्ट को डिलीट कर देता है पर उस पोस्ट की लिंक किसी और वेबसाइट ने अपने कंटेंट में add कर रखी होती है तो जब उस लिंक पर कोई reader click करता है तो उसे [404 Not Found Error या Page Not Found] का error show होता है जिसे Broken Link कहते हैं|

आपको अपनी वेबसाइट पर कोई भी ऐसी broken link मिले तो उसे हटा देना चाहिए नहीं तो उसका आपकी website की रैंकिंग पर बहुत फर्क पड़ता है| इसे चेक करने के लिए आप Ahrefs free broken link checker tool का use कर सकते हैं|जो आपको आपकी वेबसाइट के हर webpage से related broken link के बारे में जानकारी देता हैं|

10. AMP क्या है

AMP Google द्वारा launch एक free HTML framework है जो mobile users के लिए ही लाया गया है| AMP का पूरा नाम Accelerated Mobile Pages है|जिसमें आपको अपनी वेबसाइट को mobile users के लिए Set करना पड़ता है|जिससे वह mobile में फ़ास्ट load हो सके|जिसके लिए आपको अपनी वेबसाइट में कुछ plugin install करने पड़ते हैं जो आपकी वेबसाइट को amp में convert कर देते हैं पर desktop में अगर आप अपनी वेबसाइट को खोलेंगे तो वह same दिखती है पर मोबाइल पर थोड़ी अलग दिखती हैं|

क्योंकि ये plugin आपकी website से heavy codes को bypass कर देता है जिससे मोबाइल पर website की speed बहुत बड़ा जाती है|

जैसा आपको पता है की majority of people mobile पर ही internet use करते हैं तो इसीलिए आपको भी अपनी website पर AMP install करना चाहिए जिससे आपकी website पर user experience अच्छा रहे|

11. Crawling & Indexing क्या है

Crawling और Indexing ये दोनों अलग अलग चीजें हैं पर एक दूसरे से जुडी हुई है| पर बहुत से Bloggers Crawling और Indexing को समझने में गलती कर देते हैं| जब Googlebots आपकी webpage के content को analyze करते हैं तो उसे crawling कहते हैं और जब वह Google के search results pages में दिखाने के काबिल होती हैं तो उसे Indexing कहते हैं|

तो अब पता चला की Crawling & Indexing क्या हैं|अब मान लीजिये की आपने एक article लिखा तो उसे आपको Google में index करवाने के लिए आपको पहले उसे Google Console में submit करना होगा जिससे Google आपके blog post rank कर सके|

12. Robot.txt क्या है

Robot.txt एक text file होती है जो Search Engine Bots को यह बताती है की आपकी वेबसाइट के कौन से webpage को crawl और index करें और कौन से नहीं| यह REP यानि Robot Exclusion Protocol का एक भाग होता है जिसकी मदद से bots आपकी वेबसाइट के webpage को access करते हैं|

इस Robot.txt फाइल में आप bots को अपनी website को access करने की permission देते हैं और आपकी website के कौन से भाग तो वो access कर सकते हैं वो भी बताते हैं|अपनी वेबसाइट के लिए आप Sureoak की मदद से आसानी से अपनी वेबसाइट के लिए Robot.txt फाइल बना सकते हैं जिसे आप आपकी वेबसाइट की root folder में डालना पड़ता हैं|

13. XML Sitemap क्या है

XML Sitemap आपकी वेबसाइट के उन pages की एक list होती है जिसे आपको Google पर rank करवाना होता है| क्या आपको लगता है की Google bots आपकी वेबसाइट को open करके फिर Crawl करते हैं? नहीं, Google bots सीधे आपकी website के Sitemap पर जाते हैं और वहां से फिर उस webpage पर जाकर उसे analyze करते हैं|

यह आपकी Website और Google दोनों की मदद करता है इससे Google जल्दी से आपकी वेबसाइट को Crawl और Index कर लेता है और आपका article Google पर जल्द रैंक हो जाता है|आप अपनी वेबसाइट का sitemap बनाने के लिए किसी भी online tool या plugin का use कर सकते है|

पर ध्यान रहे आपको Sitemap तैयार करने के बाद उसे Google Console में सबमिट करना पड़ता है| जिससे Google के पास आपकी वेबसाइट का structure और link पहुँच सके|

14. Google Search Console क्या है

Technical SEO का 60 से 70% काम Google Search Console से सम्बंधित होता है जिसमें आपको अपनी वेबसाइट से related सारी technical चीजों की जानकारी मिलती है| इसीलिए Google Search Console को अच्छे से समझना आपके लिए बहुत जरुरी है| इसमें बहुत सारे matrices दिखाए जाते है और यह Google Analytics से अलग होता है मैंने देखा है की कुछ bloggers Google Analytics और Google Search Console को एक ही समझते हैं|

पर Google Webmaster और Google Search Console ही हैं पहले Google Webmaster में ही सारी technical चीजें दिखाई जाती थी पर Google ने उसे हटा कर एक नया platform present कर दिया और उसका नाम Google Search Console रखा| इसीलिए आपको अपनी website को Search Console के साथ connect करनी पड़ेगी जिससे Google आपकी website को analyze कर सके|

> Passage Indexing क्या है

> Blogging से पैसे कैसे कमाए

> फ्री में Blogging कैसे start करें

> Website के लिए सबसे अच्छे Blogging tools कौन कौन से हैं

15. Canonical URL क्या है

Canonical URL technical SEO से सम्बंधित होता है जो आपके या दूसरे वेबसाइट पर duplicate content को दर्शाता है| इससे reader का कोई भी सम्बन्ध नहीं होता है यह बस Google के लिए किया जाता है जिससे Google समझ सके की कौन article को रैंक करना है| जैसा आप जानते हैं की Google केवल original और fresh content को ही rank करता है पर कभी कभी ऐसा भी होता है की आपको same content दो website या दो URL पर डालना होता है जिससे Google को ये समझने में दिक्कत होती है की कौन सा content वह रैंक करे और कौन सा नहीं|

जब आप Amazon पर किसी product को खोलते हैं तो आपने देखा होगा की वहां कई color, shape, और sizes के options होते हैं जिसमें सभी का अलग URL होता है| पर product एक ही होता है तो आप Google को कैसे ये पता चलेगा की कौन से पेज को rank करना है| इसीलिए main पेज को छोड़कर सभी को Canonical URL दिया जाता है| आपको यह option Yoast Plugin में मिल जाता है|

16. CDN क्या है

Content Delivery System (CDN) आपके servers का एक group होता है जो आपकी वेबसाइट के सारे assets को जल्दी से load कर देता है और आपकी वेबसाइट को Cyber attach से भी बचाता है| आप सोच रहें होंगे की मैंने CDN को technical seo में क्यों लिया है जबकि इसका SEO से कोई सम्बन्ध नहीं है|

गलत, मै CDN की importance को जनता हूँ और मैं समझता हूँ की आपकी website की security भी SEO का ही एक हिस्सा होती है|क्योंकि अब तक हज़ारों बार मेरी website Deepawali.co.in पर साइबर attract हो चूका है जिसमें मैंने अपनी website को CDN और कुछ और plugins के मदद से बचाया है|क्योंकि अगर website गई तो सब कुछ चला गया इसीलिए आप भी अपनी website पर CDN से connect करें|CDN एक दम फ्री है जिसे आप Google Cloudflare की मदद से अपनी वेबसाइट के साथ जोड़ सकते हैं|

निष्कर्ष: Technical SEO क्या है

अंत में यही कहना चाहता हूँ की आप अपनी वेबसाइट को Google पर rank करवाना चाहते है तो आपको अपनी website का On Page SEO और Off Page SEO के साथ Technical SEO भी करना पड़गा|जिसे करना इतना मुश्किल नहीं है ऊपर मैंने कुछ SEO से related technical चीजें बताई है जिसे अगर आप follow करेंगे तो आप अपने SEO को Improve कर सकते हैं|Technical SEO में Keywords पर भी अच्छे से focus करना होता है|

मुझे लगता है की अब आप समझ ही गए होंगे की Technical SEO क्या है| क्योंकि मैंने इस article के जरिये आपको समझने की पूरी कोशिश की है अगर फिर भी अगर आपको कुछ समझ नहीं आया तो comment करिये में technical SEO के ऊपर एक वीडियो बना दूंगा|

मैंने internet पर देखा की बहुत ही काम bloggers ने इसके बारें में जानकारी दी है क्यंकि अभी भी बहुत bloggers ऐसे है जिन्हे पता है नहीं है की Technical SEO क्या है और इसे कैसे करते हैं| हालाँकि वह इन सभी चीजों का use तो करना जानते होंगे क्योंकि इनके बिना blogging संभव ही नहीं है पर उन्हें SEO का भाग नहीं मानते|

तो क्या अब आप इस article को पढ़ने के बाद Technical SEO को SEO का भाग मानते हैं अगर हाँ तो नीचे comment section में मुझे बताएं|

FAQ: Technical SEO In Hindi

अब तो आप समझ ही गए कि Technical SEO क्या है लेकिन बहुत से को technical seo की सम्बन्ध में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है पर उन्हें इंटरनेट पर ज्यादा अच्छे results नहीं मिलते है इसीलिए आज मैंने कुछ महत्वपूर्ण और सामान्य रूप से पूछे जाने वाले कुछ सवालों और उनके जवाबों के बारे में बताया है| जिसे आप पढ़कर अपनी problem को solve कर सकते हैं|

Q1. Technical SEO Audit क्या होता है और इसे कैसे करते हैं?

Ans: Technical SEO audit के मदद से आप अपनी वेबसाइट में किसी भी technical दिक्कत को ढूंढ सकते है और उसे ठीक कर सकते हैं|इसके लिए कोई tool तो नहीं है क्योंकि यह दिक्कत आपकी आपकी वेबसाइट में कही भी हो सकती है इसे आपको खुद manually इसे करना होगा|

Q2. AMP format क्या है?

Ans: AMP theme install करने के बाद आपको अपनी website का जो look mobile पर मिलता है उसी को AMP format कहते हैं| यह look traditional mobile pages से काफी अलग होता है और बहुत जल्दी load होता है|

Q3. Website कितनी जल्दी load होनी चाहिए?

Ans: हालाँकि आपकी वेबसाइट की स्पीड कई फैक्टर्स पर depend करती है जैसे website design, website data, server location, और बहुत से पर आपकी वेबसाइट को खुलने में 2 सेकण्ड्स से ज्यादा समय नहीं लगना चाहिए नहीं तो आपकी वेबसाइट स्पीड slow मानी जाएगी|

Buy Hostinger Hosting and Free SSL

Additonal discount code:- SEOPAVAN

1 COMMENT

  1. Dhanyavad sir ,Bahot hi jyada mehanat karke likha hai aapne is post par, aap ne wo har basics batein jo ki bahot hi jyada zaroori hoti hain wo har chhoti se chhoti aor badi se badi jankari ko hum sabhi ke saath me Share kiya hai,iske liye Dil se shukriya !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here